Lockdown may increase in Uttarakhand by April 30, government prepares proposal:उत्तराखंड में 30 अप्रैल तक बढ़ सकता है लॉकडाउन, सरकार ने तैयार किया प्रस्ताव

कोरोना वायरस का कहर देशभर में लगातार बढ़ता जा रहा है। कोरोना को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन को ओडिशा और पंजाब सरकार ने 30 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दिया है। उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सरकार भी अब लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने के मूड में है। इसके लिए त्रिवेंद्र सरकार ने प्रस्ताव तैयार कर लिया है।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि देशभर में जिस तरह से कोरोना वायरस का संक्रमण फैल रहा है, उसके मद्देनजर लाकडाउन बढ़ाने की जरूरत है। जरूरी वस्तुओं की दुकानों के खोलने की अवधि फिलहाल यथावत रहेगी। उन्होंने कहा कि हालांकि, कुछ हद तक उत्तराखंड में स्थिति ठीक है, लेकिन देश के अन्य राज्यों में यह संक्रमण बढ़ रहा है। इसे रोकने के लिए लाकडाउन बढ़ाना जरूरी हो गया है। राज्य के प्रबुद्ध जनों ने भी उन्हें यह सुझाव दिए हैं।
सीएम त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि दुकानों के खोलने की अवधि को सोच समझकर कर दोपहर एक बजे तक की गई है। हालांकि, कुछ अनावश्यक लोग सड़कों पर आ रहे हैं, लेकिन इस व्यवस्था से सोशल डस्टिेंसिंग बनी हुई है, लिहाजा फिलहाल इसमें कोई परिवर्तन नहीं करने जा रहे हैं। उन्होंने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में ग्राम प्रधानों, पंचायतों और निकायों के प्रतिनिधियों के विशेष सहयोग देने और राहत कोष में सहयोग करने वालों की प्रंशसा की।
पीएम मोदी ने सीएम त्रिवेंद्र रावत से की बात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत से टेलीफोन पर बात कर महामारी पर अंकुश को लेकर तैयारियों का अपडेट लिया। त्रिवेंद्र ने बताया कि पीएम मोदी एक अभिभावक के तौर पर चिंतित हैं और जब भी उन्हें समय मिलता है तो वे उत्तराखंड के बारे में अपडेट लेते रहते हैं। इसके अलावा प्रत्येक तीन दिन के भीतर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री या फिर सचिव दो बार वीडियो कांफ्रेंसिंग कर रहे हैं।
उत्तराखंड के सात जिले अछूते
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार की अतिरक्ति सतर्कता के चलते राज्य के सात जिले इस संक्रमण से अछूते हैं। कहा कि अल्मोड़ा में एक जमाती व पौड़ी में विदेश से आए युवक में कोरोना पाजिटिव का संक्रमण पाया। अन्यथा ये जिले भी इससे दूर रहते। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने 22 मार्च से ही लाकडाउन लागू कर दिया था। इसके चलते यह परिणाम आए। अभी तक जो पाजिटिव केस मिले हैं, वे दून, हरद्विार, यूएसनगर और नैनीताल जिले तक ही सीमित हैं।
वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) के असर को देखते हुए देश में लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाकर 30 अप्रैल तक किया जा सकता है। भारत सरकार के सूत्रों के हवाले से समाचार एजेंसी पीटीआई ने शनिवार (11 अप्रैल) यह जानकारी दी। देशव्यापी बंद को बढ़ाने के लिए आज हुई अहम बैठक में अधिकांश राज्यों ने पीएम मोदी से अनुरोध किया कि दो सप्ताह के लिए लॉकडाउन को बढ़ाया जाए, जिसके बाद केंद्र सरकार इस अनुरोध पर विचार कर रही है।
उल्लेखनीय है कि भारत में कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए जारी कोशिशों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से चर्चा की। प्रधानमंत्री ने इस दौरान मुख्य रूप से इस बात पर मुख्यमंत्रियों की राय ली कि संक्रमण रोकने के लिए 21 दिनों के देशव्यापी बंद को 14 अप्रैल से आगे बढ़ाया जाए या नहीं। समझा जाता है कि केंद्र सरकार ने इस महामारी को फैलने से रोकने के प्रयासों में शामिल सभी पक्षकारों और संबंधित एजेंसियों की भी राय ली है।
गौरतलब है कि पीएम मोदी ने गत 24 मार्च को 2। दिनों का देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी, जिसकी अवधि 14 अवधि 14 अप्रैल को समाप्त होने वाली है। इससे पहले पीएम मोदी के लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने का ऐलान करने की संभावना है।
पीएम मोदी ने किया था 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लोगों से कोरोना वायरस से फैल रहे संक्रमण की गंभीरता को समझने और घरों में रहने की अपील करते हुए मंगलवार (24 मार्च) आधी रात से अगले 21 दिन (14 अप्रैल) तक देश भर में संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की है। इस फैसले को एक तरह से कर्फ्यू घोषित करते हुए उन्होंने आगाह किया कि कोरोना वायरस के संक्रमण चक्र को तोड़ने के लिए अगर इन 21 दिनों में नहीं संभले तो देश 21 साल पीछे चला जाएगा।

Leave a Reply